Thursday, October 4, 2018

What is Font? | Types of Font? | फॉण्ट किसे कहते है?

"In metal typesetting, a font was a particular size, weight and style of a typeface. Each font was a matched set of type, one piece for each glyph, and a typeface consisting of a range of fonts that shared an overall design."  - Wikipedia

What is Font? | Types of Font? |  फॉण्ट किसे कहते है?

Classifications.: -- फॉण्ट के प्रकार?
What is Font? | Types of Font? | फॉण्ट किसे कहते है?

Serif Type Styles -                                      
  • Old Style
  • Transitional
  • Neoclassical & Didone
  • Slab
  • Clarendon
  • Glyphic

Sans Serif Type Styles -
  • Grotesque
  • Square
  • Humanistic
  • Geometric

Serif_Font Vs Sans_Serif_Font

Script Type Styles -
  • Formal
  • Casual
  • Calligraphic
  • Blackletter & Lombardic

Decorative Style -
  • Grunge
  • Psychedelic
  • Graffiti
दोस्तों! अब मैं आता हूँ डिटेल में और आपको समझाने की कोशिश करता हूँ | फॉण्ट आपके डिजाईन में एक बहुत ही महत्वपूर्ण रोल प्ले करता है | वो कैसे, फॉण्ट से आप किसी भी डिजाईन का एक स्टाइल सेट करते हो|

फॉण्ट का ही हिस्सा है टाइपोग्राफी, यूँ कहिये अगर फॉण्ट बाप है तो टाइपोग्राफी बेटा | फॉण्ट है तो टाइपोग्राफी है, दोस्तों! क्युकी फॉण्ट को अलग - अलग तरीके से अगर हम देख पाते है तो वो है टाइपोग्राफी की बदोलत|

टाइपोग्राफी एक आर्ट है कला है दोस्तों! आप किसी भी ग्राफ़िक को कैसे दिखाते हो| फॉण्ट कैसे लिखते हो और लिख कर किसी यूजर या सामने वालो को अपनी और कैसे आकर्षित करते हो | कुछ ही फॉण्ट देखने के बाद आपको याद रहता है, कुछ फॉण्ट तो आप देखने के बाद भूल ही जाते है, ये क्यों होता है दोस्तों! क्युकि कुछ फॉण्ट बहुत ही यूनिक होते है सबसे अलग होते है जो आपके माइंड में एक अलग प्रकार का मेसेज छोड़ जाते है | और हमारे दिमांग में बैठ जाता है | डिजाईन प्रोजेक्ट में टाइपोग्राफी का एक सही इस्तमाल करना बहुत ही जरूरी होता है | अगर टाइपोग्राफी डिजाईन में खराब होगी तो हो सकता है कि जो मेसेज हम देना चाहते हो वो न पहुंचे |

टाइपोग्राफी करने से पहले किन - किन बातों का ध्यान रखना चाहिए - 

पहले हम देखते है कि टाइपफेस क्या है? दोस्तों! टाइपफेस का मतलब होता है, एक ही फॉण्ट के अलग - अलग टाइप के प्रकार, जिसे हम फॉण्ट फॅमिली कहते है, एक ही फॅमिली के अलग - अलग पैटर्न |

टाइपोग्राफी करते समय कंट्रास्ट का बहुत ही ध्यान रखते है दोस्तों! जैसे- वाइट सरफेस पर ब्लैक कलर फॉण्ट और ब्लैक सरफेस पर वाइट कलर फॉण्ट, ये माइंड में पहले से ही लेकर चलना होता है एक टाइपोग्राफर को फॉण्ट हर एक सरफेस पर अच्छी तरह से विसिब्ल हो ताकि यूजर को आसानी हो, पढने में या समझने में किसी भी डिजाईन को, जिससे  मेसेज उस व्यक्ति तक पहुंच सके, जिस रीज़न से आपने डिजाईन को  क्रिएट किया है|

दोस्तों! अब मैं आपको बता देता हूँ  कि फॉण्ट कितने प्रकार के होते है | वैसे आप अच्छी तरह से तो समझ ही गये होंगे, अगर नही तो कोई बात नही मैं आपको समझाने की कोशिश करता हूँ|
  •  सेरिफ फॉण्ट  
  •  सेंस सेरिफ फॉण्ट  
  •  स्क्रिप्ट फॉण्ट  
  •  डेकोरेटिव फॉण्ट 
सेरिफ फॉण्ट - इस फॉण्ट को समझना आसान है, सेरिफ फॉण्ट को रॉयल फॉण्ट भी बोलते है दोस्तों! सेरिफ फॉण्ट के एंड में हर करेक्टर के आखरी में पूछ जैसा आपको नुकीला दिखाई देगा | जैसे आप जरुर परिचित होंगे Times New Roman फॉण्ट से दोस्तों!
द टाइम्स ऑफ़ इंडिया  पेपर  की हैडलाइन अगर आप देखे गे तो उसमे सेरिफ फॉण्ट ही यूज़ हुआ है | और भी बहुत उधाहरण है - एक टाइम के बाद आप को धीरे धीरे जानकारी हो जाएगी | कौन सी जगह कौन सा फॉण्ट प्रयोग में लाया गया है | 

सेंस सेरिफ़ फॉण्ट - दोस्तों! जो हमारा दूसरा फॉण्ट है वो है सेंस सेरिफ फॉण्ट आप ये फॉण्ट रोज देखते होंगे, बहुत ही इजी फॉण्ट है| Arial, Open-Sans etc. हिंदुस्तान  टाइम्स  न्यूज़  पेपर  की हैडलाइन में  सेंस सेरिफ़ फॉण्ट प्रयोग में लाया गया है |

डेकोरेटिव फॉण्ट - दोस्तों! डेकोरेटिव फॉण्ट न तो सेरिफ फॉण्ट है और न ही सेंस सेरिफ! यह है कस्टमाइज फॉण्ट, जिसको अपने आप ही कस्टमाइज कर के बनाया जाता है |

दोस्तों! अब आप अच्छी तरह से समझ गये होंगे, कि टाइपोग्राफी आपके डिजाईन के कितना महत्वपूर्ण रोल निभाता है | और आपके प्रोजेक्ट के लिए बहुत ही इम्पोर्टेन्ट होता है जब हम कोई प्रोजेक्ट पर काम कर रहे होते है |

 आज का विचार -
मेरे आत्मीय दोस्तों, शरीर की उर्जा को हम सभी जानते है, क्युकि हर समय हमारा सबका इसके साथ वास्ता पड़ता है| विचारों की उर्जा को भी जानते है, लेकिन इसका इस्तमाल सभी लोग नही कर पाते| जो कर लेते है वे आगे निकल जाते हैं| 

डिज़ाइनर. कमल जीत मौर्या 
designhungry.slidescope.com
ई-मेल.: kamalmauriya@gmail.com