Sunday, October 28, 2018

फैशन जर्नलिज्म क्या है | किसे कहते है फैशन जर्नलिज्म

क्या है फैशन जर्नलिज्म | किसे कहते है फैशन जर्नलिज्म -

फैशन जर्नलिज्म -

दोस्तों! कैसे हो आप सभी आज अपना टॉपिक कुछ अलग होने वाला है, डिजाइनिंग से रिलेटेड ही है "फैशन डिजाइनिंग" लेकिन यहाँ पर मैं आप से बात करूंगा "फैशन जर्नलिज्म" क्या है किसे कहते है? कहाँ से तेयारी करे? पूरा डिटेल में जानने की कोशिश करेंगे दोस्तों! तो   चलिए शुरू करते है - 

मेरा नाम कमल मौर्या है मैं पिछले चार सालों से ग्राफ़िक डिजाइनिंग की फील्ड में हूँ अभी जल्दी में ही मैंने ब्लॉग शुरू किया है जिसमे मैं आप सभी के लिए जितना भी अब तक मैंने सिखा है अपनी नॉलेज को आप से शेयर करता हूँ आप भी आये जो भी आप के पास नॉलेज है मुझसे शेयर कीजिये क्युकि हमारी फील्ड ही अपडेट रहने वाली है जिसमे आपको हर वक़्त अपडेट रहना होगा | और सीखते ही रहना होगा | प्रयास कंटिन्यू होना जरूरी है अगर नही चलेगे तो तालाब के पानी की तरह गंदे हो जायेगें नदी की तरह बहते रहिये और साफ़ और सबसे आगे रहिये दोस्तों तो अब शुरू करते है मेरे आत्मीय दोस्तों !

"अमृता दास एजुकेशनिस्ट और कैरिएर कौंसिल के वर्ड है जो मैं आप से शेयर करने जा रहा हूँ "

ऑनलाइन ब्लॉग से लेकर वोग मैगज़ीन में छपने वाली लेटेस्ट कैटवाक रिपोर्ट तक के लिए सिर्फ एक नाम की जरूरत पड़ती है - फैशन जर्नलिस्ट, जिसका नाम मैगज़ीन के लिए डिज़ाइनर का इंटरव्यू लेने से लेकर, स्टायलीस्ट फोटो शूट करना और अगले बड़े ट्रेंड की खोज रखना है |

महिला हो या पुरुष, युवा हो या बुजुर्ग या बच्चे आँखों को चोधिया देने वाली चमक-दमक से भरपूर फैशन की दुनिया सभी को बेहद लुभाती है | Style list कपड़े और गिल्ट रिंग शो बिज पार्टी से घिरे रहना उत्साहजनक लगता है, लेकिन फैशन की दुनिया बस मौजमस्ती और पार्टी तक सिमटी हुई नहीं है |फैशन इंडस्टी की पहुंच और भी कई क्षेत्रों तक है , जिसमें रिटेल असिस्टेंट से बुटिक मैनेजर, पैटर्न कटर्स और डिजाइनर्स तक शामिल हैं लेकिन फैशन जर्नलिस्ट के बिना फैशन इंडस्ट्री का शो बिज पूरा नही हो सकता | नये-नये फैशन ट्रेंड्स, फैशन शो, फैशन कलेक्शन और फैशन की दुनिया में खबरे रचने वाली शख्शियत फैशन जर्नलिस्ट की कलम के लिए नये फीचर का विषय बनती है | अपने विषय को लेकर फोटो फीचर तेयार करना भी फैशन जर्नलिस्ट का काम है | फैशन जर्नलिस्ट का सम्वन्ध केवल मागज़ीन और अखबारों में छपने वाले फैशन फीचर से ही नही है, बल्कि फैशन से सम्वंधित किताबों, टेलीविज़न रिपोर्ट, ऑनलाइन फैशन मैगज़ीन, वेबसाइट और ब्लोग्स को भी फैशन जर्नलिस्ट द्वारा कैद की गयी रंगीन आकर्षक तस्वीरों की जरूरत पड़ती है | बड़े स्तर पर अन्तर्राष्ट्रीय एवं स्थानीय स्तर के फैशन डिज़ाइनर के बारे में गहन जानकारी होना फैशन जर्नलिस्ट के बहुत ही जरूरी है | फैशन के जूनून, समपर्ण इस छेत्र में उसके सफलता के सूत्र होते है | 

Fashion-Journalism

मुझे क्या करना होगा  -

फैशन की दुनिया अभिलाषा और कल्पना की उड़ान के धागों से बुनी हुई है | इन धागों से बने कपड़ो और तस्वीरों को जर्नलिस्ट को अपने पाठको के लिए उसकी खासियतों के साथ कुछ इस तरह गढना है कि पाठक अपने आपको इनके साथ जोड़ कर देख सकें | यह आपका काम है कि आप उन्हें फैशन के साथ इतना जोड़ दें कि वे अपना एक स्टाइल बना सकें क्युकि आप ही है जो डिज़ाइनर के सपनों को लोगों की जिन्दगी में उतार सकते है और दोनों की जिन्दगी और सोच को आपस में जोड़ सकते है |

        फैशन  जर्नलिस्ट का काम दूसरों से काफी अलग है | उसे लेख लिखने या लेखों को सम्पादित करने या फैशन शूट को अलग अंदाज में पेश करने जैसे मुश्किल कामों के आलावा रिसर्च और /या इंटरव्यू लेने में बहुत समय और उर्जा लगानी पड़ती है | इसके आलावा उसके लिए फैशन इंडस्ट्री के लोगों के साथ खासकर डिज़ाइनर और फोटो ग्राफर के साथ सम्पर्क बनाना बहुत जरूरी है | लगातार बदलती फैशन की दुनिया और पाठकों के बीच सम्पर्क बनाये रखना, नई फैशन रेंज के आने की खबर रखना, डिज़ाइनर और उनके ट्रेंड्स पर नजर रखना, पी. आर. कंपनीज के साथ तालमेल रखना और ट्रेंड शो में शामिल होना, डिज़ाइनर के इंटरव्यूज, फैशन शूट को आयोजित करना, रिसर्च वर्क, न्यूज़ स्टोरी और फीचर लिखना जैसी जिमेदारियां फैशन जर्नलिस्ट को अपने कैरिएर के दोरान उठानी पड़ती है | फैशन जर्नलिस्ट को अक्सर फैशन लेखक, समालोचक या फैशन रिपोर्टर भी कहा जाता है | ऐसी स्थिति में फैशन डिज़ाइनर के काम, ट्रेंड्स और परिदृश्यो को समालोचक की दृष्टि से देखना और परखना भी एक अच्छे फैशन जर्नलिस्ट के लिए जरूरी है | इसके लिए आपके पास फैशन छेत्र की मजबूत पृष्ठभूमि के साथ रिसर्च करने की छमता होनी चाहिए ताकि आप इस ग्लोबल बिज़नस में डिजाईन और एतेहासिक पृष्ठभूमि पर अपनी समझ और पकड़ मजबूत रख सके | यह समझना बहुत महत्वपूर्ण है कि डिज़ाइनर ने किस तरह से अपने काम को अपने चारों और की दुनिया से जोड़ा है | फैशन इंडस्ट्री या डिजाइनिंग का अनुभव फैशन जर्नलिस्ट का काम आसान कर देता है |  

मेरे लिए क्या अवसर हैं ?


आज की दुनिया में फैशन इंडस्ट्री तेजी से बदलाव, विविधिता, गति और उर्जा का पर्याय है | फैशन की दुनिया में उत्साह वर्धक समभाव नाए है और न केवल डिज़ाइनर प्रोफेशनल बल्कि योग्य और प्रतिभाशाली युवाओं के लिए भी फैशन जर्नलिस्ट में रोजगार के लिए बेहतरीन समभाव नाए क्यूंकि फैशन इंडस्ट्री में एक्सक्लूसिव लेखन और टी. वी. प्रोग्राम बनाने के लिए बहुत अवसर है | फैशन जर्नलिस्ट अक्सर फुल टाइम या फ्रीलान्स काम कर सकते है | फैशन से जुड़ी विज्ञापन एजेंसी, इवेंट मैनेजमेंट ऑर्गेनाइजेशन, यहाँ तक की फैशन शो भी अपने पैनेल में फैशन जर्नलिस्ट को रखते है | वाग, ग्लैमर, एले, फेमिना जैसी मैगज़ीन या ज़ूम टी. वी. और फैशन टी.वी. जैसे फैशन चैनेल के ऑफिस आपके लिए नौकरी का ठिकाना बना सकते है |

मुझे कहाँ पढ़ना चाहिए ?

भारत के फैशन जर्नलिस्म/ कम्युनिकेशन से संवंधित डिग्री देने वाले संस्थानों की कमी है | फिर भी आप फैशन डिजाईन/ मैनेजमेंट के साथ पत्रकारिता में डिग्री करके इस छेत्र में कैरिअर बना सकते है |

नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ फैशन टेक्नोलॉजी (एनआईएफटी)

कोर्स: बैचलर इन फैशन कम्युनिकेशन
योग्यता: मान्यता प्राप्त बोर्ड से 10+12